Land of the Sages and the Avatars 'Bharat' is a mystical country - Surinder Muni Post's

Surinder Muni Post's

Peace Of Mind

Breaking

Post Top Ad

Responsive Ads Here

Wednesday, 18 October 2017

Land of the Sages and the Avatars 'Bharat' is a mystical country





ऋषि-मुनियों और अवतारों की भूमि ‘भारत’ एक रहस्यमय देश है।


जयतु भारतवर्ष ,, जयतु सनातन संस्कृति 

जयतु राष्ट्रम - वैदिक ग्रंथों में राष्ट्र



हमें सर्वप्रथम वैदिक ऋषियोंं की वाणी में राष्ट्रीयता का गौरव गान सुनाई


देता है। विश्व को धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष का राजमार्ग प्रदर्शित


करने वाले, आत्मा और परमात्मा का सत्यस्वरूप प्रतिपादित करने वाले


तथा ज्ञान, विज्ञान के आलोक से वसुधा को आलोकित करने वाले, वेदों मे


यत्र-तत्र सर्वत्र, राष्ट्रीयता का स्वर मुखरित होता रहा है। तथा लौकिक


कवियों की कृतियों में भी अभिव्यंजित राष्ट्रीयता का स्वर मुखरित


होता रहा है। परन्तु लौकिक कवियों की अभिव्यंजित राष्ट्रीयता में


तथा वैदिक संहिताओं में अभिव्यक्त राष्ट्रीयता में एक मौलिक अन्तर यह है,


कि लौकिक कवियों का राष्ट्र प्रेम अपने-अपने राज्यों अथवा देशों और


स्वदेशीय प्रजा के कल्याण तक सीमित है, जबकि वैदिक संहिताओं


का राष्ट्र-प्रेम सम्पूर्ण वसुधा को और प्राणीमात्र को अपने आंचल में


समेटे हुए है। ‘‘यत्र विश्वं भवत्येक नीडम’’ की व्यापक दृष्टि वेदों में सर्वत्र


परिलक्षित होती है। वेदों में अनेक स्थानों पर अपनी मातृभूमि की रक्षा में


सर्वस्व समर्पण का सन्देश दिया गया है। वेदों में अनेक स्थानों पर

अपनी मातृभूमि की मुक्तकंठ से प्रशंसा की गई है, जिसे पढ़कर या सुनकर

प्रत्येक देशवासी के हृदय में अपने देश के लिए, गौरव का भाव पनपता है।

वैदिक ट्टषि अपनी मातृभूमि के वन-पर्वत, सरित-सागर आदि के सौन्दर्य
पर मुग्ध हैं, वहां निवास करने वाली प्रजा के सांस्कृतिक जीवन पर भी वे
मुग्ध हैं। भिन्न-भिन्न भाषा-भाषी, भिन्न-भिन्न प्रकार की वेशभूषा धारण
करने वाले लोगों को देखकर, उनका मन मयूर प्रसन्नता से नृत्य करने
लगता है। अथर्ववेद का पृथ्वीसूक्त इस दृष्टि से सम्पूर्ण विश्व साहित्य में
अनुपम है। इस सूक्त में राष्ट्र-प्रेम की ऐसी धारा प्रवाहित हो रही है,
जिसके अवगाहन से रोम-रोम में राष्ट्रीयता हिलोरंे लेने लगती है। अथर्ववेद
का ट्टषि अपनी जन्म-भूमि के प्रति दिव्य भावों के स्फुरण के लिये
कहता है- ‘यही वह भूमि है जिसमें हमारे पूर्वजों ने नाना प्रकार के महान
कार्य किये। यहीं पर देवों ने असुरों को पराजित किया। यहीं गौ आदि अमृत
तुल्य दुग्ध प्रदान करने वाले, अश्वादि द्रुतगति से दौड़ने वाले पशुओं
का और मुक्त गगन में उड़ने वाले पक्षियों का सुन्दर निवास है। ऐसी यह
मातृभूमि, हमें तेज और ऐश्वर्य से परिपूर्ण कर दे।’
‘यस्यां पूर्वे पूर्वजना वि चक्रिरे यस्यां देवा असुरानभ्यवर्तयन्।
गवामश्वानां वयसश्च विष्ठा भगं वर्चः पृथिवी नो दधातु।।’ (अथर्व.
12/1/5)
यह मातृभूमि कितनी श्रेष्ठ है जिसकी रक्षा देवों के समान कुशल विद्वान
राजा और प्रजा सदैव जागरूक रहकर बिना प्रमाद के करते हैं।
‘यां रक्षन्त्यस्वप्ना विश्वदानीं देवा भूमिं पृथिवीमप्रमादम्’ (अथर्व.
12/1/7)
सम्पूर्ण विश्व में स्वर्णाक्षरों में अंकित किये जाने योग्य, वह वाक्य जिसके
प्रत्येक वर्ण में देश-प्रेम का ज्वालामुखी छिपा हुआ है, इसी पृथ्वी सूक्त में
है-
‘माता भूमिः फत्रो{हं पृथिव्याः पर्जन्यः पिता स उ नः पिपर्तु।’
भूमि को माता कहकर फकारना और पर्जन्य अर्थात् मेघ को पिता कहकर
सम्मानित करना, एक ऐसा सिद्धांत है जिससे हमारे नीति निर्माता बहुत
कुछ सीख सकते हैं। आज जो हमारे राष्ट्र में कृषि की महत्ता पर बड़े-बड़े
सेमिनार हो रहे हैं, कृषिनीति की तैयारियां हो रही हैं, उसका सूत्ररूप वेदों में
विद्यमान है।
‘विश्वस्वं मातरमाषधीनां ध्रुवां भूमि पृथिवीं धर्मणा धृताम्।
शिवा स्योनामनुचरेम विश्वहा।’ (अथर्व. 12/1/17)
भूमिसूक्त में भावप्रवण प्रार्थना करते हुए निवेदन किया गया है- हे
मातृभूमि! तुम से जो गन्ध उत्पन्न हो रहा है, जिस गन्ध
को औषधियां धारण करती हैं, जिसको जल धारण कर रहे हैं, जिसको सुन्दर
युवक और युवतियां प्राप्त कर रहे हैं, उस अपने गन्ध से मुझ को भी सुन्दर
गन्ध वाला बना दे और कोई भी हमसे द्वेष न करे।
‘यस्ते गन्धः पृथिवि संबभूव यं बिभ्रत्योषधयो यमापः।
यं गन्धर्वा अप्सरश्च भेजिरे तेन मा सुरभि कृणु। मा नो द्विक्षत
कश्चन।’ (अथव. 12/1/23)
हमारे राष्ट्र की यह भूमि स्थल रूप में देखने पर केवल शिलाओं, पत्थरों और
धूल-मिट्टी का ढ़ेर प्रतीत होती है, किन्तु राष्ट्रवासियों द्वारा सम्यक्
प्रकार से धारण किये जाने पर तथा इसे प्राणो से भी प्रिय समझ लेने पर,
यही धरती राष्ट्रवासियों को आश्रय देने वाली मातृभूमि बन जाती है और
हम सबको धारण कर लेती है। इस मां के वक्षः स्थल में हिरण्यादि पदार्थ
छिपे हुए है। यह अपने भक्तों को इन सुवर्णादि से परिपूर्ण कर देती है,
ऐसी मातृभूमि को हम नमन करते हैं-
‘शिला भूमिरश्मा पांसुः सा भूमि संधृता धृता।
तस्यै हिरण्यवक्षसे पृथिव्या अकरं नमः।।’ (अथर्व 12/1/26)
ग्रीष्म, वर्षा, शरद वसन्त, हेमन्त और शिशिर ये 6 ट्टतुएं
इसकी शोभा बढ़ाती हैं। इस भूमि पर यजुर्विद यज्ञीय-स्तूपों का निर्माण
करते हैं, ब्राह्मण ऋग्वेद के मन्त्रों एवं सामवेद के मधुर गान से
परमात्मा की अर्चना करते हैं। इसी भूमि में हम मानव गाते हैं, नाचते हैं।
योद्धा युद्ध करते हैं, शोर मचाते हैं, दुन्दुभि बजाते हैं, ऐसी यह
पृथ्वी माता हमारे शत्रुओं को मार भगावें और हमें शत्रुरहित कर देवें-
‘यस्यां गायन्ति नृत्यन्ति भूम्यां मर्त्या व्यैलबाः।
युध्यन्ते यस्यामाक्रन्दो यस्यां वदति दुन्दुभिः।
सा नो भूमिः प्रणुदतां सपत्नानसपन्न मां पृथिवी कृणोतु।’ (अथर्व.
12/1/41)
अथर्ववेद के अतिरिक्तं ऋग्वेद, यजुर्वेद में वर्णित राष्ट्रीयता के दिव्य भाव
हृदय आनन्द विभोर कर देते हैं।
एक देश में जन्म लेने वाले हम सब देशवासियों में एक रागात्मक सुदृढ़
बन्धुता का उदय होता है, जिससे प्रेरित होकर हम लोग छोटे-बड़े
(ज्येष्ठत्व, कनिष्ठत्वश् का भेदभाव भूलकर और सभी एक
ही धरती माता की गोद से उत्पन्न हुए हैं (पृश्निमातरःश्, ऐसा मानकर
अपनी मातृभूमि के विकास एवं रक्षा में पूर्ण शक्ति से लगने में ही गौरव
अनुभव करते हैं-
‘अज्येष्ठासो अकनिष्ठास एते सं भ्रातरो वावृधुः सौभगाय।’ (ऋग्वेद
5/60/5)
अनेक पाश्चात्य चिन्तकों तथा उनके अनुगामी, भारतीय राजनीति शास्त्र के
लेखकों का विचार है कि राष्ट्र अथवा राष्ट्रीयता भारत को पश्चिम की देन
है, किन्तु वैदिक संहिताओं का अध्ययन करने पर, यह धारणा सर्वथा भ्रान्त
एवं मिथ्या प्रतीत होती है। वेदों में राष्ट्र की परिकल्पना स्पष्ट रूप से
उपलब्ध होती है। राष्ट्र शब्द वेद के अनेक मन्त्रों में प्राप्त होता है।
राष्ट्र के सर्वविध कल्याण के लिये राष्ट्र भृत् यज्ञ का वर्णन (यजुर्वेद
के 9.10 अध्याय में) विस्तार से किया गया है। यहां तक कि विवाह संस्कार
के अवसर पर भी राष्ट्रभृत यज्ञ का विधान किया गया है। By


ऋषि-मुनियों और अवतारों की भूमि ‘भारत’ एक रहस्यमय देश है। यदि धर्म कहीं है तो सिर्फ यहीं है। यदि संत कहीं हैं तो सिर्फ यहीं हैं। माना कि आजकल धर्म, अधर्म की राह पर चल पड़ा है। माना कि अब नकली संतों की भरमार है फिर भी यहां की भूमि ही धर्म और संत है।
भारत में ऐसे बहुत सारे रहस्यमय स्थान हैं, जहां जाकर आपको अजीब ही महसूस होगा। इन स्थानों पर अभी और भी शोध किए जाने की आवश्यकता है।
हिमालय : हिमालय की वादियों में रहने वालों को कभी दमा, टीबी, गठिया, संधिवात, कुष्ठ, चर्मरोग, आमवात, अस्थिरोग और नेत्र रोग जैसी बीमारी नहीं होती। हिमालय क्षेत्र के राज्य जम्मू-कश्मीर, सिक्किम, हिमाचल, उत्तराखंड, असम, अरुणाचल आदि क्षेत्रों के लोगों का स्वास्थ्य अन्य प्रांतों के लोगों की अपेक्षा बेहतर होता है। इसे ध्यान और योग के माध्यम से और बेहतर करके यहां की औसत आयु सीमा बढ़ाई जा सकती है। तिब्बत के लोग निरोगी रहकर कम से कम 100 वर्ष तो जीवित रहते ही हैं।
देव आत्मस्थान : उत्तराखंड में एक ऐसा रहस्यमय स्थान है जिसे देवस्थान कहते हैं। मुण्डकोपनिषद के अनुसार सूक्ष्म-शरीरधारी आत्माओं का एक संघ है। देवताओं, यक्षों, गंधर्वों, सिद्ध पुरुषों का निवास इसी क्षेत्र में पाया जाता रहा है।
देवस्थान : प्राचीनकाल में हिमालय में ही देवता रहते थे। यहीं पर ब्रह्मा, विष्णु और शिव का स्थान था और यहीं पर नंदन कानन वन में इंद्र का राज्य था। इंद्र के राज्य के पास ही गंधर्वों और यक्षों का भी राज्य था। स्वर्ग की स्थिति दो जगह बताई गई है- पहली हिमालय में और दूसरी कैलाश पर्वत के कई योजन ऊपर। यहीं पर मानसरोवर है और इसी हिमालय में अमरनाथ की गुफाएं हैं।
रहस्यमय बातें : हिमालय में ही यति जैसे कई रहस्यमय प्राणी रहते हैं। इसके अलावा यहां चमत्कारिक और दुर्लभ जड़ी-बूटियां भी मिलती हैं। भारत और चीन की सेना ने हिमालय क्षेत्र में ही एलियन और यूएफओ को देखने का दावा किया है। हिमालय में ही एक रूपकुंड झील है। इसके तट पर मानव कंकाल पाए गए हैं। पिछले कई वर्षों से भारतीय और यूरोपीय वैज्ञानिकों के विभिन्न समूहों ने इस रहस्य को सुलझाने के कई प्रयास किए, पर नाकाम रहे।
बर्फीले पहाड़ो में रहने वाला महामानव यानि येती वो जीव है जिसके बारे में ढेरों किवदंतियां हैं। येती यानि हिममानव का अस्तित्त्व हमेशा ही सवालों के घेरे में रहता है। वैज्ञानिक शोध में पता चला है कि हिमालय के मिथकीय हिम मानव ‘येति’ भूरे भालुओं की ही एक उप-प्रजाति के हो सकते हैं. इसकी संभावना है कि उच्च हिमालयी क्षेत्रों में भूरे भालुओं की उप-प्रजातियां हो सकती हैं.
चीनी मीडिया ने हाल ही में एक ऐसा वीडियो जारी किया है जिसमें येती की मौजूदगी साफ-साफ नजर आती है। चीन में अब तक महामानव की मौजूदगी की 400 रिपोर्ट मिल चुकी हैं। चीनी मीडिया में इस विशालकाय मानव के वीडियो ने सनसनी मचा दी थी।
वह एक रहस्य है फिर भी युगों से लोगों के मन मस्तिष्क पर छाया हुआ है। कही वन देवता पर्वतों की देवात्मा के रूप में पूज्य, कही अपने पगचिन्हों से पर्वतारोहियों और खोजी व्यक्तियों के रोमाँच का विषय और कही मानव विकास की लुप्त कड़ियों को खोजते वैज्ञानिकों का रोचक विषय यही है हिमाच्छादित -पर्वत श्रृंखलाओं में अपने रहस्यमय अस्तित्व के साथ विचरण करने वाला हिममानव येती। लद्दाख से तिब्बत -नेपाल होते हुए सिक्किम -अरुणाचल प्रदेश तक लाखों वर्ग कि .मी . में फैली हिमालय की ऊँची बर्फीली चोटियों से ढकी घाटियों में रहने वाले लोग हिममानव को सदियों से जानते है। अलग अलग क्षेत्रों में इसे येती मिटे शुफ्पा, मीगो और कगामी आदि नामों से जाना जाता है।
येती को देखने का सर्वप्रथम विवरण सन १ में मिलता है, जब एक नेपाली व्यापारी ने नेपाल तिब्बत मार्ग पर एक पशु मानव देखने का दावा किया था। वह लगभग दस फुट ऊंचा था और उसका शरीर लाल रंग के बालों से ढका हुआ था। सन १८६७ में रोगर पेटर्सन इसकी फिल्म लेने में सफल हो गया। यह सब एकाएक हो गया फिल्म दूर से लिए जाने व प्रकाश का सामंजस्य न हो पाने के कारण अत्यंत धुँधली आयी। किन्तु इससे येती की अस्तित्व को बहुत बल मिला।
हिमालय के हिममानव येती संबंधी सर्वप्रथम प्रामाणिक दावा १९२१ में एवरेस्ट आरोहण दल के अध्यक्ष सी. के. पारी ने किया। उन्होंने देखा की नीचे बर्फीली ढलान पर एक बड़े बालों वाला विशालकाय प्राणी चला आ रहा है। जिसकी आकृति मनुष्य से मिलती है।
एक बार जब कुछ पर्वतारोही ऊपर जा रहे थे और रात हो गयी तो पर्वतारोहियों ने अपने-अपने तम्बू लगा दिए। रात के समय दल के एक सदस्य ने एक विशालकाय दोपाए जीव को तम्बू के इधर उधर घूमते देखा। सूचित किये जाने पर उसके अन्य साथियों ने भी इसे दिखा। निरीक्षण करने पर पाया गया कि यह जीव कहानियों में वर्णित येती से मिलता -जुलता था। वे उन्हें देखकर भाग खड़े हुए। इनके पगचिह्न ३१ सेंटीमीटर लम्बे और ० सेंटीमीटर चौड़े थे। बी. बी. सी. ने इनके फोटो टेलीविजन पर भी दिखाए थे।
एवरेस्ट पर सर्वप्रथम विजय पताका फहराने वाले शेरपा–तेनजिंग के साथी सर एडमंड–हिलेरी ने भी अपने स्मरणों में हिममानव की चर्चा की है। By

Post Bottom Ad

Responsive Ads Here

Pages